वीमेन पॉवरलाइन और रानी लक्ष्मीबाई अवार्ड ने यूपी में महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा दिया है

 upp

उत्तर प्रदेश देश की सबसे बड़ी जनसंख्या वाला राज्य है। ऐसे में अखिलेश यादव जब सीएम बने थे, तो उनके ऊपर सबसे बड़ी जिम्मेदारी ये थी कि वह निराशा के रास्ते से प्रदेश को मोड़कर नव आशा का संचार करें। साथ ही महिला, युवा और बुजुर्गों को उनका समान अधिकार दिलाएं। इसलिए सीएम अखिलेश ने प्रदेश का संतुलित विकास करने का काम किया है। महिलाओं को उनका हक, सुरक्षा और बराबर मौके देने के लिए सीएम अखिलेश ने काफी काम किया। यही वजह है आज प्रदेश की महिलाओं में सीएम का काफी क्रेज है।

सम्मान और सुरक्षा

upp1

सीएम अखिलेश ने अपनी सरकार के बनते ही महिलाओं को प्रदेश में सम्पूर्ण सुरक्षा देने के लिए 1090 वीमेन पॉवरलाइन की शुरुआत की। जिससे महिलाओं के मन से डर का भाव गायब हो गया। रानी लक्ष्मी बाई अवार्ड के तहत प्रदेश की बहादुर बेटियों को अखिलेश सरकार पुरस्कृत करती है। जिससे उनके हौसले को नये दिशा मिलती है।

बढ़ाये मौके और पहुंचाई मदद

upp2

कन्या विद्याधन योजना से यूपी की लड़कियों की इंटर के बाद की पढ़ाई आसान होने लगी। हालांकि सरकार छात्रवृत्ति योजना भी चला रही है। साथ ही समाजवादी पेंशन योजना से आज की तारीख में 56 लाख से ज्यादा महिलाएं लाभांवित हो रही हैं। इस योजना चाभी भी सीएम अखिलेश ने महिलाओं के हाथ दी। मुख्यमंत्री ने गरीब और पिछड़े तबके की बेटियों के विवाह के लिए भी बजट में प्रावधान किया है। इसके अलावा विधवा पेंशन योजना से भी 16 लाख लाभार्थियों को लाभ मिल रहा है।

लड़कियों की शिक्षा पर दिया ध्यान

upp3

इसी तरह दूरदराज रहने वाली युवतियों के लिए तकनीकी शिक्षा पाने की राह आसान करने के लिए राज्य सरकार ने महिला पॉलीटेक्निक का निर्माण करा रही है। अखिलेश सरकार की लैपटॉप योजना का लाभ बड़ी संख्या में छात्राओं को मिला है।

लखनऊ मेट्रो में भी सीएम अखिलेश ने महिला ड्राईवरों को मौका दिया है। इन सभी वजहों से आज की तारीख में महिलाएं सीएम अखिलेश को अपने नेता के रूप में सबसे ज्यादा पसंद करती हैं।