paytm1

आधुनिक दुनिया में सबसे ज्यादा किसी चीज का ह्रास हुआ है, तो वह मानवता है। लोग एक ही रास्ते से जाकर एक ही ऑफिस में काम करते हैं। लेकिन उनका वाहन अलग-अलग होता है। कोई भी किसी की मदद करने को जल्दी आगे नहीं आना चाहता है। भले ही सामने वाला व्यक्ति किसी दुर्घटना का शिकार क्यों न हो गया हो। कुल मिलाकर मनुष्य का मानवीय पहलू बड़ा दुर्लभ होता जा रहा है। ऐसे में जब कोई नेता ऐसा मानवीय व्यवहार करता है। हालाँकि हमारे देश में ऐसे कई नेता हैं जिनकी मानवता अपने आप में मिसाल है। जिसमें यूपी के सीएम अखिलेश यादव का नाम सबसे ऊपर आता है।

cm-tweet

हाल ही में लखनऊ में यशभारती सम्मान समारोह हुआ, जिसमें पेटीएम (Paytm) के सीईओ विजय शेखर शर्मा भी शरीक हुए। अखिलेश सरकार ने उन्हें सम्मान देने के लिए बुलाया था। विजय लखनऊ में जब इवेंट के लिए सीएम आवास जा रहे थे, तभी उनकी कार ट्रैफिक जाम में फंस गई। जब विजय को लगा कि वो कार से इवेंट में वक्त पर नहीं पहुंच पाएंगे, तो उन्होंने कार छोड़ दी। यहां से विजय शेखर सीएम आवास तक एक रिक्शे पर सवार होकर पहुंचे। जहाँ सीएम ने उनसे मुलाकात की। साथ ही उन्होंने रिक्शेवाले जिनका नाम मणिराम है। रायबरेली के रहने वाले मणिराम से सीएम अखिलेश ने मुलाकात की और अपनी उदारता दिखाते हुए। उन्हें कुछ नगद पैसे, ई-रिक्शा और लखनऊ में एक लोहिया आवास दिया।

उसके बाद सीएम ने ट्विटर पर रिक्शेवाले मणिराम की फोटो पोस्ट करते हुए लिखा, ‘ट्रैफिक जाम की वजह से पेटीएम के सीईओ विजय शेखर शर्मा को हमारे पास रिक्शे से आना पड़ा। लखनऊ मेट्रो से शहर में जाम की समस्या से जल्द छुटकारा मिलेगा।’ सीएम से मिलने के बाद मणिराम ने कहा कि मुख्यमंत्री अखिलेश भइया को देखा और उन्होंने मुझसे बात की। साथ ही मदद भी की। सीएम की इस मानवीय संवेदना से मणिराम की जिंदगी पूरी तरह से बदल गयी।