neha singh

कहते है कि खुदी को कर बुलन्द इतना कि खुदा बन्दे से खुद पूछे, बता तेरी रजा क्या है। कुछ इसी बुलंदी से लबरेज हैं, प्रदेश की शान  नेहा सिंह। गोरखपुर की रहने वाली नेहा सिंह उत्तर प्रदेश की पहली महिला फाइटर प्लेन उड़ाने वाली लड़की बन गयी हैं। खास बात ये हैं कि भारतीय वायुसेना में महिलाओं को फाइटर विमान चलाने की अनुमति अभी हाल ही में मिली है। ऐसे में नेहा सिंह का इस मुकाम को हासिल करना प्रदेश के लिए गौरव की बात है।

नेहा सिंह को बचपन से ही अनंत आकाश की गहराइयों को नापने का ख्वाब था। जिसे उन्होंने अब साकार कर दिया है। गोरखपुर की मिटटी में बचपन बिताकर वहीं के मशहूर कार्मल गर्ल्स कालेज से हाई स्कूल, फिर लिटिल फ्लॉवर इण्टर कॉलेज से इंटर की पढ़ाई की है। देश की राजधानी दिल्ली में बीएससी करने पहुँची नेहा सिंह ने वायुसेना के माध्यम से देश सेवा का एक बार जो ख्वाब देखा तो दिन प्रतिदिन उसी राह पर चलती गयी। अंत में भारतीय वायु सेना में लड़ाकू विमानों को उड़ाने वाली फेहरिस्त में उनका नाम भी शामिल हो गया।

उनके पिता रविन्द्र नाथ सिंह व माँ श्रीमती रंजना सिंह वर्ष 1989 में महानगर के सुमेर सागर रोड स्थित किरोड़ी मल का हाता परिसर में अपना आशियाना बनाकर रहने लगे और यहीं जीविकोपार्जन हेतु रियल एस्टेट के कारोबार में जम गए। रवीन्द्रनाथ सिंह के तीन बच्चों में सबसे बड़ी नेहा हैं। नेहा सिंह की सफलता प्रदेश के युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत की तरह है। खासकर उन लोगों के लिए, जो लड़कियों को कम करके आंकते हैं। उनके लिए नेहा सिंह एक अच्छा जवाब हैं। साथ ही उन्होंने उन तमाम लड़कियों के लिए एक उदाहरण पेश किया है कि लड़कियां आज की तारीख में किसी भी क्षेत्र में लकड़ों से पीछे नहीं हैं। बस उन्हें मेहनत और लगन से अपने काम को करना चाहिए। दुनिया में जो भी सोचा जा सकता है वह किया जा सकता है। सोशल समाजवादी नेहा के हौसलों को सलाम करता है, साथ ही उनकी कामयाबी पर उन्हें बधाई देता है।