sambhal6

यूँ तो सरकारी स्कूलों को लेकर लोगों के मन में हमेशा एक मिथक रहा है। लेकिन इस मिथक की मिथ्या साबित कर रहा है, उत्तर प्रदेश के संभल जिले का एक सरकारी स्कूल। इस स्कूल की सुविधाएं किसी कान्वेंट स्कूल से कम नहीं हैं। संभल जिला के इटायला माफी में ये स्कूल है। जो अखिलेश सरकार के क्लीन यूपी और ग्रीन यूपी के पैमाने पर खरा उतरता है। साफ सुथरा स्कूल, किचन, कमरों में जगमग करती सोलर रौशनी में नहाये इस स्कूल में हर कोई अपना बच्चा पढ़ाना चाहेगा।

sambhal5

sambhal

स्कूल के प्रधानाचार्य कपिल मलिक कहते हैं कि छात्रों का जीवन हमारी जिम्मेदारी है। उसे सुधारने के लिए इच्छा शक्ति होनी चाहिए। स्कूल में हरियाली के लिए करीब 300 गमले लगाए गए हैं। साथ ही 1000 पौधे लगे हैं। इससे पहले यहाँ 30-32 बच्चे पढ़ने के लिए आते थे। लेकिन अब यहाँ अच्छी संख्या में छात्र आते हैं। स्कूल को उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से सम्मान भी मिल चुका है। हर बच्चे की ड्रेस साफ सुथरी, गले में आईडी कार्ड सब कुछ बिल्कुल वैसा जैसा किसी प्राइवेट स्कूल में होता है।

sambhal4

शरीर तंदरुस्त रहे इसलिए विद्यालय में खेल कूद के सामान भी उपलब्ध हैं। इस विद्यालय में साफ सुथरे बर्तन, खाद्य पदार्थों के बंद डिब्बे और दीवारों पर टाइल्स लगी है। आज समय की मांग है कि संभल के इस स्कूल की तरह ही यूपी के अन्य सरकारी स्कूल भी शिक्षा का ऐसा ही वातावरण तैयार करें। जिससे उत्तर प्रदेश के सीएम के सपने साकार हों।