image

इटावा की एसएसपी मंजिल सैनी लखनऊ की पहली महिला एसएसपी नियुक्त की गई हैं। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस संबंध में मंगलवार दोपहर ट्वीट कर हर तरह की अटकलों पर विराम लगा दिया है। मुख्यमंत्री ने मंजिल सैनी रूप में प्रदेश की राजधानी को उसकी पहली महिला एसएसपी देने के कदम को महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में उपलब्धि बताया है। मंजिल सैनी 2005 की आईपीएस अधिकारी हैं और लखनऊ ट्रांसफर से पहले वह इटावा में तैनात थीं। सोमवार रात उनकी नियुक्ति को लेकर प्रशासनिक ऊहापोह रही। 

आजादी के बाद यह पहला मौका है जब किसी महिला पुलिस अधिकारी को लखनऊ का एसएसपी बनाया गया है। 19 सितंबर 1975 को दिल्ली में जन्मी मंजिल सैनी ने शुरुआती पढ़ाई दिल्ली के सेंट स्टीफेंस कॉलेज से की। इसके बाद दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनामिक्स से मंजिल ने न सिर्फ मास्टर डिग्री हासिल की बल्कि गोल्ड मेडल भी हासिल किया। वर्ष 2005 बैच की आईपीएस अधिकारी मंजिल सैनी इसके पहले इटावा, मुजफ्फरनगर, बंदायू, मथुरा समेत आधा दर्जन से ज्यादा जनपदों में बतौर पुलिस कप्तान तैनात रहीं। इटावा में वह बीते एक साल से बतौर एसएसपी तैनात थीं। 


मुख्यमंत्री भी कर चुके हैं तारीफ

मंजिल ट्रेनिंग पूरी करने के महज छह माह के अंदर ही मुरादाबाद में तैनाती के दौरान गुडगांव के 2008 के बहुचर्चित किडनी रैकेट का भंडाफोड़ किया था। इसके चलते वो सुर्खियों में आईं। मंजिल सैनी एक साल से इटावा में पोस्टेड थीं और वहां उन्होंने अपराध को रोकने में बड़ी भूमिका निभाई थी। मंजिल सैनी के काम काज की तारीफ खुद सीएम अखिलेश यादव और सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव कर चुके हैं। इसके बाद से ही शासन स्तर पर मंजिल सैनी के एसएसपी लखनऊ बनाए जाने की चर्चाओं ने जोर पकड़ लिया था। 

image

सोशल मीडिया लेडी सिंघम उपनाम से हैं चर्चित, बन रही फिल्म
मंजिल सैनी मीडिया में लेडी सिंघम के नाम से मशहूर हैं और अपराधी उनके नाम से खौफ खाते हैं। साल 2013 में जब मुजफ्फरनगर में दंगे हुए थे उससे पहले मंजिल सैनी की पोस्टिंग वहां हुई थी। उन्होंने केंद्रीय नियुक्ति के लिए भी अप्लाई किया था लेकिन राज्य सरकार ने इसकी इजाजत नहीं दी। मुजफ्फरनगर दंगे पर बनी फिल्म में दक्षिण फिल्मों की सुपरस्टार ऐश्वर्या देवन फिल्म में आईपीएस मंजिल सैनी का किरदार निभाया है। मुजफ्फरनगर 2013 शीर्षक से बनी इस फिल्म के निर्माता मनोज सिंह हैं फिल्म में मंजिल सैनी एक बेहतरीन काबिल और बोल्ड आईपीएस के रूप में दिखाई गई हैं।