43

कहते हैं संस्कार और अपनी संस्कृति हमें हमारे पूर्वजों से सीखनी पड़ती है। हमारे पूर्वज हमें सही गलत राह में फर्क समझाते हैं। आजकल जहां एक तरफ राजनीति में बिगड़े बोलों का दौर बढ़ा है। तो वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को शालीन और बेदाग़ चेहरे के उदाहरण के तौर देखा जाता है। यूपी में उनकी कद का कोई नेता किसी भी पार्टी में नहीं है। कुछ ऐसा ही संस्कार अखिलेश यादव अपने बच्चों को भी दे रहे हैं। हाल ही में इसका उदाहरण हमें साफ़ तौर पर देखने को मिला। जब मुख्यमंत्री के पुत्र अर्जुन ने अपने दादा मुलायम और शिवपाल का बड़े अदब और सम्मान के साथ पैर छुआ।

विकास रथ यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री अपने पूरे परिवार के साथ उपस्थित थे। सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने खुद इस रथ यात्रा को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। अखिलेश यादव के संस्कार जहां आज युवाओं के लिए सीख बने हुए हैं। तो वहीं बेटे अर्जुन ने को ने मंच पर अपने पिता द्वारा मिले संस्कारों का परिचय दिया। मुलायम ने भी इससे खुश होकर अर्जुन को अपना आशीर्वाद देते हुए उसके सर पर हाथ रखा।

इसके बाद मुलायम अर्जुन का हाथ पकड़ कर मंच के बीच में रखी अपनी कुर्सी तक पहुंचे। अखिलेश के बेटे अर्जुन ने मुलायम के पीछे खड़े अपने दूसरे दादा शिवपाल के भी पीर छूकर आशीर्वाद लिया। अर्जुन के इस तरह के कार्यो से पता चलता है कि अखिलेश ने उन्हें कैसे संस्कार दिए हैं। इसलिए युवा अपने चहेते नेता अखिलेश यादव को अपना आदर्श भी मानते हैं।