सीएम अखिलेश ने 20 जून से प्रदेश में हौसला पोषण योजना चलाने का एलान किया

image

 

गर्भवती महिलाओं और बच्चों को कुपोषित होने से बचाने के लिए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव खुद आगे आए हैं। उन्होंने 20 जून से पूरे प्रदेश में हौसला पोषण योजना चलाने की घोषणा तो की ही है। खुद भी श्रावस्ती जिले के एक गांव को इस अभियान के तहत गोद लेने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री राज्य पोषण मिशन के तहत इस गांव में गर्भवती महिलाओं और 7 माह से तीन साल तक के अतिकुपोषित बच्चों को पूर्ण आहार की उलब्धता के साथ उनकी सेहत में सुधार के कार्य सुनिश्चित कराएंगे। उन्होंने मुख्य सचिव से भी अपेक्षा की है वे बहराइच के एक गांव को गोद लेकर उसे कुपोषण से मुक्त कराने की दिशा में काम करें।

हौसला पोषण अभियान के तहत गर्भवती महिलाओं और अतिकुपोषित बच्चों को गर्म और पका हुआ भोजन उपलब्ध कराया जाएगा। साथ ही उन्हें एक फल भी खाने के लिए दिया जाएगा। इससे पहले राज्य पोषण मिशन के तहत राज्य सरकार इस योजना का ट्रायल जिलाधिकारी और मुख्य विकास अधिकारी द्वारा समस्त गोद ली गई ग्राम सभाओं में कर चुकी है। मंडलायुक्तों, जिलाधिकारियों, मुख्य विकास अधिकारियों एवं मण्डलीय और जनपदीय अधिकारियों द्वारा अब तक 7,643 ग्राम सभाएं गोद ली जा चुकी हैं। अब हौसला पोषण योजना चलाकर सरकार इसे और प्रभावी बनाने जा रही है। इसके अन्तर्गत गर्भवती महिलाओं और कुपोषित बच्चों के वजन की मासिक ट्रैकिंग, उनके पोषण की स्थिति, सेहत आदि जिला स्तर पर निगरानी करने के बाद डाटा की अपलोडिंग ‘सुपोषण वेबसाइट’ पर की जाएगी। पोषण एवं स्वास्थ्य सम्बन्धी सेवाएं मासिक स्तर पर प्रदान करने के लिए आंगनबाड़ी केन्द्र के स्तर पर मौजूद प्लेटफॉर्म को और अधिक प्रभावी और सक्रिय बनाया जाएगा।