80

लोकतंत्र में सबसे पहला स्थान आम जनता का होता है। जिसके हित में सरकारों को काम करना होता है। इसके इतर अगर सरकारें जनता को दुःख देने का काम करती हैं। तो आम जनता ऐसी सरकारों को जमीन पर ला देती है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव जो आम जनता में सबसे ज्यादा लोकप्रिय हैं। उनकी लोकप्रियता का सबसे अहम कारण ये है कि वह आम जनता के हित में ही फैसले लेते हैं। वहीं केंद्र की मोदी सरकार लगातार आम जनता को दुःख देने का काम कर रही है। नोट बंदी से आज पूरे देश की जनता परेशान है।

Uttar Pradesh Chief Minister Akhilesh Yadav felicitating teachers with "Swarsati Samman"during a teachers felicitation programme at his official residence in Lucknow on saturday. Express photo by Vishal Srivastav 20.12.2014

समाजवादी लोग हमेशा कालेधन के खिलाफ रहे हैं। इसलिए उन्हें इस बात की कोई चिंता नहीं है। इससे पहले पूरे यूपी में पत्थर की मूर्तियां और हाथी बनाने वाली बसपा सुप्रीमो ने तो गरीबों की खिल्ली उड़ाते हुए नोटों की माला पहनी थी। यही नहीं पीएम मोदी ने भी गरीबों का मजाक उड़ाते हुए उन्हें लाइन में लगाने की बात कही है। वहीं सीएम अखिलेश इस मामले पर जनता के साथ खड़े हुए नजर आये। उन्होंने गांवों में कैश वैन चलाने के निर्देश दिए। साथ ही यूपी में जमीन खरीदने में रजिस्ट्री कराने में पुराने 500 और 1000 रुपये के नोट को 24 नवम्बर तक मान्य किया।

मोदी सरकार के इस फैसले से आज लोगों की जान जा रही है। पैसे के लिए लोग सुबह से शाम तक लाइन में खड़े हैं। आम जनता का बुरा हाल है। नोटों पर प्रतिबंध से काफी संख्या में लोगों की नौकरियां जा रही हैं। जिन्हें चेक या बैंक से वेतन नहीं मिल रहा है उनके सामने रोजगार का संकट खड़ा हो गया है।