133

केंद्र की मोदी सरकार ने बिना किसी तैयारी के देश में नोटबंदी लागू कर दिया था। तकरीबन एक महीने में नोटबंदी के चलते पूरे देश में 60 से ज्यादा लोगों की मौत ही चुकी है। आम जनता मोदी सरकार के इस कदम की वजह से बैंक और एटीएम के सामने हर दिन लम्बी कतारों खड़ी रहती है। नोटबंदी किसी महामारी की तरह लगातार लोगों की जान ले रही है। लेकिन इस संकट की घड़ी में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपनी जनता के साथ हैं।

131

अलीगढ़ जनपद की रज़िया पत्नी अकबर हुसैन की मौत बैंक की लम्बी कतार में हो गयी। सीएम अखिलेश ने उनके निधन पर दुःख व्यक्त करते हुए उनके परिजन को ‘मुख्यमंत्री विवेकाधीन कोष’ से 5 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। इस घटना को दुःखद बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की जनता को अपनी ही धनराशि को प्राप्त करने के लिए बलिदान देना पड़ रहा है। ये बड़े ही दुःख की बात है।

रज़िया अलीगढ़ में ही एक कारखाने में मजदूरी करती थीं। वह नज़दीकी बैंक में लगातार तीन दिन तक लाइन में लगी रहीं। लेकिन उन्हें पैसा नहीं मिला। जिससे उन्होंने दुःखी होकर अपने आप को आग लगा ली। इसके अलावा सीएम अखिलेश ने नोट बंदी के फलस्वरूप बैंकों एवं एटीएम की कतार में नोट बदलवाने में लगे सभी मृतकों के परिजनों को परीक्षणोपरान्त 02-02 लाख रुपए की आर्थिक सहायता ‘मुख्यमंत्री विवेकाधीन कोष’ से देने की घोषणा की है।