awadh shilp gram2

यूपी की अखिलेश सरकार ने राज्य में हस्तशिल्पियों को प्रोत्साहित करने एवं उनके आर्थिक व सामाजिक विकास को प्रमुखता देने के लिए 207 करोड़ रुपये की लागत से अवध शिल्प ग्राम का निर्माण कराया है। इस शिल्प ग्राम के निर्माण से हस्तशिल्पियों तथा विभिन्न क्षेत्रों के उद्योगों तथा उनके उत्पादों के विकास को नया आयाम मिलेगा।

अवध शिल्प ग्राम परियोजना के अन्तर्गत दुकानों के साथ ही आडिटोरियम, एम्फीथियेटर, फूड कोर्ट, प्रदर्शनी हाल, शिल्पियों व कारीगरों के विश्राम हेतु डोरमेट्री के साथ-साथ मनोरंजन के भी साधन विकसित किये गये हैं। अवध शिल्प ग्राम में 9 फूड कोर्ट एवं 2 रेस्टोरेंट, लगभग 150 क्राफ्ट शाप एवं ओपन क्राफ्ट प्लेटफार्म, 54 एसी क्राफ्ट दुकानें, 5 एसी एंकर दुकानें क्राफ्ट निर्माण के लिए 24 क्राफ्ट कोर्ट निर्मित किये गये हैं। लखनऊ हाट में 44 बेड की महिलाओं की डारमेट्री, 102 बेड की पुरूषों की डारमेट्री लगभग 500 क्षमता का रंगमंच, दो बड़े ए0सी0 हाल, 01 विजीलेंस रूम, एक टिकटिंग रूम को भी विकसित किया गया है।

craft

राजधानी लखनऊ में अवध विहार योजना के अंतर्गत सेक्टर-1 में 20 एकड़ क्षेत्रफल में अवध शिल्पग्राम परियोजना को मूर्त रूप दिया गया है। यह शिल्प ग्राम ‘लखनऊ हाट’ के नाम से भी जाना जायेगा। यूपी की अखिलेश सरकार का मुख्य उद्देश्य हस्तशिल्पकारों और हस्तशिल्प को ज्यादा से ज्यादा प्रोमोट करना है। इससे लोग प्रेरित भी हो रहे हैं और हस्तशिल्प के कामों में बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं। इससे प्रदेश के विकास को गति मिल रही है। साथ ही ज्यादा से ज्यादा लोगों को रोजगार मिल रहा है।