capture5

यूपी के सीएम अखिलेश यादव को जनता का सीएम यूँ ही नहीं कहा जाता है। इसकी वजह ये है कि सीएम अखिलेश जनता से सुख-दुःख बराबर खड़े होते हैं। हाल ही में सीएम अखिलेश ने लखीमपुर खीरी में बाघ के हमले में मारे गये 4 लोगों के आश्रितों से मुलाकात कर उनके परिजनों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की। सीएम ने मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपये और कृषि उत्पादन मण्डी परिषद की ओर से संचालित समूह जनता व्यक्तिगत दुर्घटना सहायता योजना के तहत पात्र लाभार्थियों के आश्रितों को 2-2 लाख रुपये के चेक दिए। कुल मिलाकर आश्रितों को 7-7 लाख रुपये की आर्थिक सहायता मिली है।

इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि सीएम अखिलेश आम जनता के कितने करीब हैं। उन्होंने आश्रितों को  अपने आवास पर बुलाकर मुलाकात की और उन्हें मदद दी। इससे पूर्व की मुख्यमंत्री के कार्यकाल में जनता के लिए सीएम आवास के दरवाजे बंद रहते थे। यही नहीं सीएम अखिलेश ने प्रभावित व्यक्तियों के आश्रितों को कृषक दुर्घटना बीमा योजना का लाभ देने की भी घोषणा की। इसके अलावा सीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वन्य जीव सम्बन्धित ऐसी घटनाएं भविष्य में दोबारा न हों।

सीएम अखिलेश यादव इसी मामले में बाकी राजनेताओं से काफी अलग हैं। वह जनता के हित को सर्वोपरि रखते हुए, जनता की सेवा करते हैं। इसीलिए सीएम अखिलेश बतौर सीएम जनता की पहली पसंद हैं।