Hindi Story SS

क्या आप गणित में भाग के 100 सवालों को 96 सेकंड में हल कर सकते हैं या फिर ऐसे ही 1000 प्रश्नों को 17 मिनट में? कानपुर की दिलप्रीत कौर ऐसा कर सकती हैं। दिलप्रीत की उम्र महज 14 साल है। लेकिन परिश्रम और हौसले के दम पर उन्होंने बड़े-बड़ों को पीछे छोड़ दिया हैं। दिलप्रीत की इन्हीं उपलब्धियों के कारण लोग उन्हें ‘कैलकुलेटर गर्ल’ के नाम से पुकारने लगे हैं।
उत्तर प्रदेश के कानपुर जिला की यह छात्रा जन्म से ही विद्वान नहीं थी, लेकिन कठिन परिश्रम और माता-पिता के दिशा-निर्देश ने आज वह इतनी मेधावी हो चुकी हैं कि गणित के कठिन से कठिन प्रश्न हल करने में दिलप्रीत को चंद सेकंड लगते हैं। दिलप्रीत की इस प्रतिभा से प्रभावित हो लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड ने उन्हें विशिष्ठ प्रतिभा वाले लोगों की सूची में शामिल किया है। लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड के अधिकारियों ने पुष्टि की है कि ऐसा हुनर उन्होंने पहले किसी में नहीं देखा है। इस वजह से ही दिलप्रीत को 2016 के लिम्का बुक आॅफ रिकार्ड में जगह दी गई है।
दिलप्रीत और गणित के बीच की यह रोमांचक कहानी तब शुरू हुई, जब वह कक्षा दो की छात्रा थी। दिलप्रीत के माता पिता उसे रोज गणित के 5000 सवाल हल करने को देते थे। हालांकि तब उन्हें यह नहीं मालूम था कि इस तरह एक दिन उनकी बेटी वर्ल्ड रिकॉर्ड स्थापित कर देगी। दिलप्रीत की इस उपलब्धि से परिवार वाले तो खुश ही हैं, उसके अध्यापक और स्कूल के साथी विद्यार्थी भी गदगद है।
सोशल समाजवादी भी इस नन्ही ‘कैलकुलेटर गर्ल’ गर्व को उसके जोश, जज्बे और जुनून को सलाम करता है। हमें आप पर गर्व है दिलप्रीत।