ayush hospital

हमारा स्वास्थ्य हमारी सबसे बड़ी ताकत है। किसी भी काम को हम पूरी ऊर्जा से तब कर सकते हैं। जब हमारा शरीर पूरी तरह से फिट हो। यही सोच हमारी उत्तर प्रदेश सरकार भी रखती है। युवा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव प्रकृति प्रेमी हैं। इसके अलावा वह प्राकृतिक चिकित्सा को भी बढ़ावा देते रहे हैं। इसके लिए उन्होंने हाल ही में प्रदेश के 41 जिलों में कुल 42 योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा सहित कई आयुष केन्द्रों की स्थापना करने की घोषणा की है।

प्रदेश सरकार के इस फैसले से लोग प्राकृतिक उपचार की ओर फिर से मुड़ेंगे। आयुर्वेदिक अस्पतालों के उन्नयन के लिए 1.50 करोड़ रुपये तथा 50 शैय्या के दो एकीकृत अस्पतालों की स्थापना के लिए 15 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है। इनके अतिरिक्त एक यूनानी आयुष अस्पताल की स्थापना भी की जाएगी, जिसके लिए 3.90 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है। प्रत्येक आयुष स्वास्थ्य केन्द्र को प्रारम्भिक उपकरण खरीदने के लिए 60 हजार रुपये की एकमुश्त सहायता सरकार देगी। साथ ही रखरखाव इत्यादि के लिए प्रति वर्ष 5.35 लाख रुपये की सहायता मिलती रहेगी। इसके अलावा औषधि जांच प्रयोगशाला को एक-एक करोड़ देने का प्रावधान भी सरकार ने किया है। राज्य आयुष सोसाइटी के अन्तर्गत प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट की स्थापना के लिए भी 4.34 करोड़ रुपये की व्‍यवस्‍था की गई है।

आयुर्वेद चिकित्सा से जनता को कम खर्च में अच्छा उपचार तो मिलेगा ही, साथ ही नये रोजगार भी पैदा होंगे। कुल मिलाकर सरकार के इस फैसले से प्रदेश की जनता स्वस्थ होगी और यूपी विकास के पथ पर तेजी से आगे बढ़ता रहेगा।