image

बरेली की रहने वाली अंजलि मिश्रा को बहादुरी के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने महारानी अहिल्या बाई होल्कर पुरस्कार से सम्मानित किया है। बरेली के किला मोहल्ले के तुलसी मठ में रहने वाली अंजलि का यह पुरस्कार दो बच्चियों को डूबने से बचाने के लिए दिया गया है। 

24 जून 2015 को अंजलि अपनी बहन और रिश्तेदारों के साथ उत्तराखंड के ऋषिकेश  घूमने गई थी। वहां दर्शन कर वापस लौटते वक्त अंजलि की नजर दो बच्चियों पर पड़ी जो गंगा नदी में पानी के बहाव के साथ डूब रही थीं। उन्हें डूबता देख अंजलि ने पानी में छलांग लगा दी और दो बच्चियों को किनारे पर ले आई। उन बच्चियों को बचाते वक्त अंजलि खुद भी पानी के बहाव में बहने लगी, लेकिन उसने हार नहीं मानी और वीरता से डंटी रही।

लोगों ने अंजलि की इस बहादुरी के बारे में तब जाना जब उत्तर प्रदेश सरकार ने उसे अहिल्या बाई होल्कर पुरस्कार से सम्मानित किया है। अंजलि के माता-पिता भी उनकी बहादुरी से काफी खुश हैं। वो अपनी बेटी को आईएएस ऑफिसर बनाना चाहते है। अंजलि की इस कामयाबी और बहादुरी से पूरा शहर लबरेज़ है।