1090-_____-____-____-700x350

महिलाओं व युवतियों से छेड़खानी को रोकने के लिये, अखिलेश यादव द्वारा, शुरू की गई 1090 वूमेन पावर लाइन का डंका अब अमेरिका में भी बजेगा। देश के तमाम राज्यों में वाहवाही हासिल करने के बाद अमेरिका की टेक्सास यूनिवर्सिटी पावरलाइन और उसके सामाजिक प्रभाव पर रिसर्च करने जा रही हैं। गौरतलब है कि यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर्स की टीम दो बार राजधानी स्थित पावर लाइन हेडक्वार्टर का दौरा कर रिसर्च के लिये जरूरी जानकारी व आंकड़े जुटा चुकी है।

करीब साढे़ चार साल पहले तक महिलाओं की शिकायतों को पुलिस सुनती नहीं थी। घरवाले चुप रहने की सलाह देते थे, लेकिन यूपी पुलिस ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के नेत्रेत्व में, 1090 की शुरूआत की, शिकायतों की बाढ़ सी आ गई। वजह थी पीड़ित लड़कियों या महिलाओं को ऐसा प्लेटफार्म मिलना, जहां उसको शिकायत के लिये जाना नहीं था। उनकी पहचान गोपनीय रखी जाती थी। पीड़ितों के दिये नम्बर से ही पुलिस इन शोहदों के ऐसे पेंच कसती कि समस्या बिना किसी मुकदमा, एफआईआर के खत्म हो जाती। इस साढ़े चार साल के सफर में देश भर के तमाम राज्यों की पुलिस ने अखिलेश यादव की इस पहल को सराहा।

women-power-line-6

रिसर्च कर रहे अनुपम अग्रवाल ने बातचीत में कहा कि 5 साल पहले तक यूपी की महिलाओं लड़कियों की सोच में बड़ा बदलाव आया है और उस बदलाव में टेक्नालाजी के साथ 1090 का बड़ा हाथ है। पांच साल पहले छेड़खानी की समस्या पर होने वाली बात और आज उस पर बातचीत का तरीका बदला है ये बदलाव कैसे आया, कितना बदलाव आया, यही उनका रिसर्च होगा। उन्होंने रिसर्च के लिये पहले फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया, टाटा मोटर्स समेत तमाम सब्जेक्ट्स पर सोचा, जिनके जरिए समाज में बदलाव आया है। लेकिन, 1090 द्वारा छोटी सी मियाद में इतनी बेहतर परफॉरमेंस ने उन्हें प्रभावित किया। नतीजतन, उन्होंने इसे रिसर्च का सब्जेक्ट बनाने का निश्चय किया।

प्रो. अनुपम के मुताबिक, उन्होंने पावर लाइन द्वारा सॉल्व किये गए कुछ चुनिंदा केसेज के आरोपियों की मनोदशा का गहनता से अध्ययन किया। अनुपम कहते हैं कि अब तक के अध्ययन में उन्होंने पाया कि छेड़खानी का शिकार युवतियां, जो पहले छेड़खानी को नजरंदाज कर देती थी वहीं, अब घटना होते ही 1090 पर कॉल कर शिकायत करती हैं। इसका साफ मतलब है कि न सिर्फ महिलाओं व युवतियों में आत्मविश्वास में बढ़ोत्तरी हुई है बल्कि, उनकी इस तरह के अपराधों पर सहनशक्ति भी कम हुई है। यही बदलाव उनकी रिसर्च का विषय होगा।

women-powerline-1090-reviewmantra

टेक्सास यूनिवर्सिटी ने कुछ चौंक देने वाले आंकड़े हमे दिखाए:

वूमेन पावरलाइन को मिली शिकायतें

  • 5,82,854 फोन पर छेड़खानी की
  • 46,471 सार्वजनिक स्थानों पर छेड़खानी की
  • 10,063 सोशल साइट्स पर छेड़खानी की
  • 9,873 घरेलू हिंसा से संबंधित की
  • 1,498 महिला संबंधित अन्य समस्याएं की

अब भारत के साथ साथ सात समंदर पार भी 1090 का डंका बजेगा।