79

उत्तर प्रदेश में साल 2012 में जब युवा और ओजस्वी अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, तो किसी ने सोचा नहीं था कि अखिलेश यादव अपने कार्यकाल में यूपी को इतना आगे ले जायेंगे। जहां विपक्षी और केंद्र सरकार सिर्फ जुमलाबाजी करते रहे। वहीं अखिलेश ने जो कहा वह कर दिखाया। साथ ही उनके विकास कार्यों में काफी संतुलन है। चाहे वह 5 करोड़ पौधे लगवाना हो या मेट्रो और एक्सप्रेसवे बनाना हो। सीएम अखिलेश यादव प्रदेश को एक सुनियोजित ढंग से आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं। इसी कड़ी में अखिलेश यादव ने लखनऊ की गोमती नदी को साफ़ करके उसे सुंदर बनाने का काम भी किया।

77

पूर्व की सरकारों ने जिस तरह गोमती नदी का निरादर किया था। अखिलेश यादव ने उसी गोमती नदी को ईको-फ्रेंडली ग्रीन रिवर बनाने का काम किया है। गोमती नदी रिवर फ्रंट को लन्दन की टेम्स नदी के आधार पर विकसित किया है। इसके अलावा अखिलेश सरकार आस्ट्रेलिया की तर्ज पर रिवट फ्रंट परियोजना में गोमती के किनारे स्टेडियम का भी निर्माण करवा रही है। अखिलेश सरकार की योजना है कि गोमती नदी में रिवर क्रूज और वॉटर बस भी चलाई जाए। इस पूरे रिवरफ्रंट को हरा-भरा बनाये रखने के लिए पेड़ भी लगाये गये हैं। वाटर शो के लिए म्यूजिकल फाउंटेन और तटों पर घास लगाकर बैठने के लिए छोटे-छोटे स्टैडिंग रूम भी हैं।

76

वहीं मोदी सरकार ने गंगा जल तो बेचना शुरू कर दिया, लेकिन गंगा की सफाई भूल गयी। लेकिन अखिलेश यादव ने गोमती रिवरफ्रंट बनाकर लखनऊ को एक खूबसूरत तोहफा दिया है। साथ ही विपक्षियों को ये बता दिया है कि वह जो कहते हैं। उसे पूरा भी करते हैं।