1

अच्छी आदतें वास्तव में पारिवारिक संस्कार से हमें मिलती हैं. वह कहते हैं कि एक पढ़ी-लिखी माँ अपने आप में यूनिवर्सिटी होती है. इसलिए सीएम अखिलेश ने यूपी में कई ऐसी योजनायें चलाई, जो महिलाओं के उत्थान और मान-सम्मान में सहायक बनी. साथ ही महिलाएं हर क्षेत्र में नई ऊंचाई छु सकें. क्योंकि सीएम अखिलेश का भी अपना परिवार है, उनके दो बेटियां और एक लड़का है. जिन्हें वह बतौर पिता बेहतर संस्कार देते हैं. साथ ही उन्हें बेटा-बेटी में कोई अंतर नहीं रखते हैं.

गर्भवती महिलाओं के लिए सीएम अखिलेश ने पूरे प्रदेश में 102 एम्बुलेंस सेवा चला रहे हैं. जिससे महिलाओं को समय पर इलाज और अस्पताल में पहुँचाने में मदद मिलती है. इस एम्बुलेंस सेवा ने पूरे प्रदेश में बहुत ही अहम काम किया है. अखिलेश सरकार की ये बहुत बड़ी मदद है. जो नारी सशक्तिकरण को बढ़ावा देता है.

2

राज्य में महिलाओं की सुरक्षा के लिए स्थापित 1090 वूमन पॉवर लाइन महिला उत्पीड़न रोकने में काफी मददगार साबित हुई है. आज महिलाएं पूरे प्रदेश में खुद को सुरक्षित महसूस करती हैं. वीमेन पॉवरलाइन 1090 की मदद से अबतक महिला उत्पीड़न के करीब पांच लाख मामलों का निस्तारण किया जा चुका है। महिला सुरक्षा पर विशेष ध्यान देते हुए अखिलेश सरकार ने महिला थानों की संख्या भी बढ़ाई है.

3

कोख में बेटियों को लोग मारे न इसलिए कन्या भ्रूण हत्या पर अखिलेश सरकार का रवैया पहले से काफी सख्त है। अखिलेश सरकार ने इस मामले में सरकारी और निजी अस्पतालों को पहले से ही चेतावनी दी जा चुकी है। साथ ही जो मामले आये हैं उनमें दर्जन भर से ज्यादा नर्सिंग होम और निजी क्लीनिक का सरकार ने लाइसेंस रद्द भी किया है.

4

अखिलेश सरकार ने बेटियों को प्रेरित करने के लिए रानी लक्ष्मीबाई महिला सम्मान कोष की स्थापना की। अखिलेश सरकार नारी शक्ति को सम्मानित करने के लिए रानी लक्ष्मी बाई वीरता पुरस्कार देती है. साथ ही लड़कियों की पढ़ाई जारी रखने के लिए ‘हमारी बेटी-उसका कल योजना और बालिकाओं को कन्या विद्याधन भी उपलब्ध करा रही है.  इसके आलावा पहले सरकार आशीर्वाद योजना के तहत छात्राओं को 20-20 हजार रुपये की एफडी व साइकिल बांट चुकी है।