asa

जैसे ही चुनाव आयोग ने साइकिल चुनाव चिन्ह के बारे में अपना फैसला उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव वाले धड़े के पक्ष में सुनाया, तो पूरे उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव के समर्थकों में ख़ुशी की एक नयी उमंग के साथ जोश की लहर दौड़ गयी और इसके साथ ही पार्टी में जारी खींचतान का अंत हो गया। समाजवादी पार्टी के साथ ही मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के लिए कल का दिन बहुत ही सुखद और इतिहासिक रहा, पिछले तीन माह से पूरे देश की मीडिया में और हर गांव-शहर की गली, नुक्कड़ और चौराहों पर सिर्फ अखिलेश की ही चर्चा होती रही।

चुनाव आयोग का फैसला आते ही अखिलेश यादव सीधे अपने पिता मुलायम सिंह के आवास पहुंचे उनका आशिर्वाद लिया और उसके बाद मुख्यमंत्री अखिलेश ने कार्यकर्ताओं को सन्देश दिया की संयम बनाये रखें तथा अपनी-अपनी विधानसभायों में जाकर पार्टी की फिर से सरकार लाने के लिए जुट जाएँ। मुलायम सिंह ने यह कहकर सारी अटकलों पर भी विराम लगा दिया हैं कि वह अखिलेश का कोई विरोध नही करेंगे और समाजवादी पार्टी पूरी तरह एक है कहीं कोई बिखराव नही हैं। फेसबुक से लेकर ट्विटर पर अखिलेश यादव को बधाई देने वालों का तांता लग गया है। अखिलेश यादव ट्विटर पर ट्रेंड पर भी कर रहे हैं। अखिलेश यादव को बधाई देने में बड़े बड़े नेता भी शामिल है जिनमें ममता बनर्जी, लालू प्रसाद यादव, कपिल सिब्बल आदि शामिल हैं।

अब पूरे देश की निगाहें अखिलेश पर लगी हुयी हैं क्योंकि बहुत से वरिष्ठ नेता और राजनीति विशेषज्ञ अखिलेश के राजीनीतिक कौशल और नेतृत्व क्षमता के कारण उन्हें देश के भावी नेता के रूप में देख रहे हैं। आज की तारीख में वो इतना बड़ा ब्रांड बन कर सामने आये हैं की विपक्षियों की तो हवा टाइट है।