31

अखिलेश सरकार ने यूपी में शिक्षा की अलख जगाने में अहम योगदान निभाया है। बड़े पैमाने पर प्रदेश के प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती की। साथ ही डेढ़ लाख के करीब शिक्षामित्रों को स्थायी शिक्षक बनाकर प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों की कमी को पूरी तरह से खत्म कर दिया है। इसके अलावा प्राथमिक शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए अन्य प्रयास भी किये। इसी प्रयास के अन्तर्गत स्कूली बच्चों को राज्य सरकार द्वारा मध्यान्ह भोजन योजना के तहत पौष्टिक आहार उपलब्ध कराया जा रहा है। ताकि उनका स्वास्थ्य ठीक रहे और वे पढ़ाई में अपना पूरा ध्यान लगा सकें। इसके लिए राज्य सरकार बच्चों को गर्म दूध और फल भी उपलब्ध करा रही है।

मध्यान्ह भोजन योजना के अन्तर्गत उपलब्ध कराए जा रहे भोजन को बच्चे ठीक से खा सकें यह सुनिश्चित करने के लिए अखिलेश सरकार ने अब उन्हें थाली एवं गिलास उपलब्ध कराए जाने का निर्णय है। इसके अन्तर्गत बच्चों को थाली एवं गिलास दिए जा रहे हैं। किसी भी देश, प्रदेश अथवा समाज की प्रगति में शिक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका है। इसलिए राज्य सरकार प्राथमिक शिक्षा पर विशेष बल दे रही है। इसलिए शुरुआती शिक्षा की गुणवत्ता का ठीक होना बहुत जरूरी है। इतना ही नहीं अखिलेश सरकार प्राथमिक शिक्षा के पाठ्यक्रम को बेहतर बनाने का काम कर रही है। इसके अलावा अंग्रेजी मीडियम के स्कूलों तथा सरकारी स्कूलों के पाठ्यक्रमों के बीच के गैप को खत्म करने की कोशिश कर रही है।

अखिलेश सरकार की इस योजना के अन्तर्गत एक करोड़ स्टेनलेस स्टील की भोजन थालियां तथा इतने ही गिलास विद्यार्थियों में वितरित किए जाएंगे। इसके लिए अखिलेश सरकार ने बजट में 114 करोड़ रुपये का प्राविधान किया है। समाजवादी सरकार अपनी प्रासंगिकता को जमीन पर उतार रही है। जिससे गरीबों को बेहतर शिक्षा मिलने का मार्ग प्रशस्त हो रहा है।