pink auto

आज देश हो या प्रदेश महिलाएं पुरुष के मुकाबले किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं हैं। यहाँ तक सेना में महिलाएं भी फाइटर प्लेन उड़ाने की तैयारी में हैं। इससे महिला सशक्तिकरण का अंदाजा लगाया जा सकता है। इसी तत्वाधान में सीएम अखिलेश यादव ने राजधानी लखनऊ में चलने वाली मेट्रो में महिला ड्राईवर रखने की घोषणा की थी। अब सीएम ने एक और कदम आगे बढ़ाते हुए महिला स्पेशल पिंक ऑटो के ड्राइविंग की कमान महिलाओं के हाथ में सौंप दी है।

प्रदेश सरकार के इस निर्णय से महिला सशक्तिकरण को तो बढ़ावा मिलेगा ही साथ ही प्रदेश की महिलाएं भी अब पुरुषों की तरह ऑटो चलाकर आर्थिक लाभ पा सकती हैं। इससे महिलाओं के बीच एक सकारत्मक सोच को भी बढ़ावा मिलेगा। जिससे प्रदेश की महिलाओं का आत्मविश्वास भी बढेगा। इससे पहले परिवहन निगम की महिला स्पेशल पिंक एक्सप्रेस बसों में महिला कंडक्टरों को नियुक्त किया जा चुका है। जिससे महिलाओं को रोजगार के साथ-साथ सम्मान भी मिल रहा है।

इस योजना के मुताबिक पहले चरण में 100 महिलाओं को पिंक ऑटो चलाने का परमिट दिया जायेगा। परमिट हासिल करने के लिए सिर्फ महिलाएं ही आवेदन कर सकेंगी। आवेदन करने वाली महिलाओं के पास व्यावसायिक ड्राइविंग लाइसेंस होना जरूरी होगा। जिसके बाद उन्हें शहर में ऑटो चलाने की इजाजत मिल जाएगी। प्रदेश सरकार की इस पहल का महिलाओं ने स्वागत किया है। इससे उन्हें समाज में बराबरी का हक़ मिलेगा और इसके साथ-साथ उन्हें सम्मान और रोजगार भी मिलेगा। सीएम का ये कदम स्वागत योग्य है।