KANYA VIDHYA DHAN

किसी भी समाज के विकास में महिलाओं का बहुत बड़ा योगदान होता है। साथ ही सभ्य समाज में महिलाओं की भागीदारी काफी अहम है। इस बात का विशेष ध्यान देते हुए प्रदेश की अखिलेश सरकार ने लड़कियों को शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए उन्हें कन्या विद्याधन देती आई है। जिससे ये छात्राएं इंटरमीडिएट के बाद अपनी आगे की पढ़ाई जारी रखें और प्रदेश के विकास में अपनी भूमिका को सुनिश्चित करें। प्रदेश सरकार अगले महीने में 89100 मेधावी छात्राओं को कन्या विद्याधन देगी। ये राशि छात्राओं के खाते में सीधे पहुंचेगा। इसके लिए माध्यमिक शिक्षा विभाग ने जिलेवार लक्ष्य जारी कर दिया है।

अखिलेश सरकार इंटरमीडिएट पास करने वाली मेधावी छात्राओं को कन्या विद्याधन के तौर पर एकमुश्त 30 हजार रुपये देती है। माध्यमिक शिक्षा विभाग ने सभी 75 जिलों में 89100 मेधावी छात्राओं का चयन किया है। वहीं, 9900 छात्राओं का चयन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव स्वयं करेंगे। हालांकि इन छात्राओं के नामों की अभी घोषणा नहीं की गई है। इस तरह से चालू वित्त वर्ष में कुल 99 हजार छात्राओं को इस योजना का लाभ मिलेगा।

मुख्यमंत्री की इस योजना का लाभ बीते कई वर्षों से प्रदेश की मेधावी छात्राओं को मिल रहा है। इससे न सिर्फ उन्हें भविष्य में अपने करियर में नई ऊंचाई छूने का मौका मिलता है। इसके अलावा समाजवादी सरकार की महिला सशक्तिकरण की नीति का अंदाजा लगाया जा सकता है। कुल मिलाकर हमारे युवा मुख्यमंत्री हमेशा से महिलाओं को समाज में बराबरी का हक़ देने के लिए काम करते रहे हैं। जिसका परिणाम भी प्रदेश में दिख रहा है।