उत्तर प्रदेश के तमाम जिलों की अपनी खास दस्तकारी और कला है। लेकिन संरक्षण और कई बार कलाकारों को आर्थिक सहयोग नहीं मिलने से ये कलाएं दम तोड़ रही हैं। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने प्रदेश की कलाओं को विलुप्त होने से
रोकने की पहल की है।

इसी क्रम में उन्होंने गेहूं की डण्ठल यानी भूसे से कलाकृति तैयार करने वाले कलाकार अलीमुल्लाह सिद्दीकी को अपने सरकारी आवास पर आमंत्रित कर सम्मानित किया। श्री सिद्दीकी की कलाकृतियों की सराहना करते हुए उन्हें 5 लाख रुपये का चेक प्रदान किया। उन्होंने कहा कि इस कला को बढ़ावा दिए जाने की जरूरत है जिससे नई पीढ़ी इस कला की बारीकियों से रूबरू हो सके।

प्रदेश सरकार कला तथा कलाकारों को संरक्षण देने का काम कर रही है। साहित्यकारों, कलाकारों, खिलाडि़यों, विद्वानों तथा प्रतिभावान विद्यार्थियों को राज्य सरकार ने सम्मानित करने का कार्य किया है। उन्होंने कहा कि समाजवादी सरकार कुटीर उद्योग, विलुप्त हो रही विभिन्न कलाओं से लेकर दस्तकारी एवं अन्य पारम्परिक कलाओं को बढ़ावा दे रही है।