मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने एक बार फिर संवेदनशीलता का परिचय दिया है। लखनऊ में आलमबाग के श्रम विहार मोहल्ले में सोमवार दोपहर अचानक आग लग गई थी। इसमें 120 से ज्यादा गरीब परिवारों को झोपड़ियां जलकर राख हो गई थीं। सैकड़ों परिवार का आसरा तो राख ही हो गया, उनकी जमा पूंजी भी तबाह हो चुकी थी। मुख्यमंत्री अखिलेश में इस मामले को गंभीरता से लिया और आग में अपना सबकुछ गंवा चुके लोगों की मदद का आदेश दिया। जिन लोगों की झोपड़ियां आग में जल गईं थी मुख्यमंत्री ने उन्हें 50-50 हजार रुपये और हादसे मारे गए व्यक्ति के परिवार को 5 लाख रुपये देने का एलान अपने सरकारी आवास पर किया। उन्हें उजड़े हुए आशियानों को बसाने के लिए रेलवे को पत्र लिखने की भी बात कही है।

आलमबाग के गढ़ी कनौरा स्थित अम्बेडकर वार्ड के श्रम विहार मोहल्ले में सोमवार दोपहर करीब 12 बजे रेलवे की खाली जमीनों पर बनी झुग्गियों में आग लग गई थी। झोपड़ियों में से लोगों ने अपना सामान बाहर निकालकर बाल्टी-बाल्टी भर पानी से आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन वे नाकाम रहे। फायर ब्रिगेड की दस गाड़ियां भी घंटों मशक्कत के बाद आग पर काबू पा सकी थीं। झुग्गी-झोपड़ियो में लगी आग से एक रिक्शा चालक सत्तन की मौत हो गई थी। रिक्शा चालक सत्तन यहां झोपड़ी में अपने दो बेटी व एक पुत्र संग करीब दस वर्षो से रह रहा था।