वेंटीलेटर या आईसीयू में भर्ती होने वाले गंभीर रोगियों का इलाज अब आसान हो सकेगा।संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान पीजीआई के एन्सथीसियोलॅाजी विभाग के अस्सिटेंट प्रोफेसर डॉ.आशीष कुमार कनौजिया ने दुनिया का सबसे छोटा वीडियो लेरिंगोस्कोप बनाकर इस मुश्किल को आसान कर दियाहै।डाॅ-ने इस उपकरण का पेटेंट भी करा लिया है।

इस वीडियो लेरिंगोस्कोप को डॉक्टर अपने स्मार्टफोन से जोड़कर उन मरीजों पर प्रयोग कर सकेंगे, जिन की सांस की नली में रुकावट या जनरल एन्सथीसिया द्वारा ऑपरेशन किया जानाहै।साथ ही यह वीडियो लेरिंगोस्कोप आईसीयू में भर्ती उन गंभीर मरीजों के लिए बेहद कारगार होगा, जिन्हें वेंटीलेटर की जरूरत होती है।आशीष कुमार की इस उपलब्धि को देखते हुए उन्हें 16 मार्च को राष्ट्रपति भवन आमंत्रित किया गया है। डॉ-आशीष इस डिवाइस को बनाने में 5 साल से जुटे थे। छोटे वीडियो लेरिंगोस्कोप के अगले सिरे पर एक कैमरा और रोशनी के लिए एक एलईडी लैम्प लगाया गया है। कैमरे व लैम्प के जरिए शरीर के अंदर की फोटो मिल सकती है।यह उपकरण कम्प्यूटर, लैपटाप टैबलेट, स्मार्टफोन उपकरणों से जोड़ा जा सकता है।तार या वाई-फाई की मदद से भी इससे ली गई फोटो को स्क्रीन पर देखा जा सकता है।इस उपकरण को इण्टरनेट से भी जोड़ा जा सकता है जिसके द्वारा लाइव वीडिया या फोटो भेजकर विशेषज्ञों के सुझाव लिए जा सकते हैं।इसके वीडियो व फोटो का प्रयोग टेली मेडिसिन की तौर पर भी किया जा सकता है। इस उपकरण द्वारा रिकार्डिंग भी की जा सकती है।