image

खेल परस्पर सहयोग और सद्भाव की भावना का पैदा करजा है। जब विविधताओं और अलग-अलग सांस्कृतिक विरासत से भरे उत्तर प्रदेश जैसे बड़े राज्य की बात हो तो इसका महत्व बहुत बढ़ जाता है। इसी को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश में खेलों को बढ़ावा देकर इस क्षेत्र को नई ऊंचाई प्रदान की है। खेलों में गहरी रुचि रखने वाले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी है। इसी क्रम में अब उन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर के पर्वतारोही और एवरेस्ट विजेता अर्जुन वाजपेयी को भी उनकी मैकालू पर्वत यात्रा के लिए 30 लाख रुपये का अनुदान दिया है। जिलाधिकारी के माध्यम से भेजे गए अनुदान के साथ सीएम ने अर्जुन को यात्रा के लिए शुभकामनाएं भी प्रेषित की हैं। अर्जुन वाजपेयी को 30 लाख रुपये का अनुदान देने का अनुरोध जिलाधिकारी एनपी सिंह ने मुख्यमंत्री से किया था। इस पर मुख्यमंत्री राहत कोश से अर्जुन को मदद दी गई है। जिलाधिकारी एनपी सिंह ने अपने कैम्प आॅफिस में 30 लाख रुपय का चेक और राष्ट्रीय ध्वज अर्जुन को सौंपा। अर्जुन विश्व की सबसे ऊंची पांच चोटियों में से एक मैकालू पर चढ़ाई करेंगे। उनकी यात्रा 4 जून को पूरी होगी। पर्वतारोही अर्जुन वाजपेयी राज्य सरकार की ओर से दिए गए राष्ट्रीय ध्वज को मैकालू चोटी पर फहराएंगे।

22 साल के अर्जुन वायपेयी भारत के तीसरे युवा हैं, जिसके नाम एवरेस्ट फतह करने का खिताब है। अर्जुन ने महज 16 साल 11 महीने और 18 दिन की उम्र में एवरेस्ट पर चढ़ाई की थी। इसके साथ ही उन्होंने महाराष्ट्र 19 साल की उम्र में एवरेस्ट विजेता बनने के रिकाॅर्ड को भी तोड़ दिया था। अर्जुन में 4 अक्टूबर 2011 को माउंट मनासलू की चढ़ाई भी की थी। हिमाचल प्रदेश की स्पिति घाटी में 6180 मीटर की ऊंचाई चढ़ाई कर अर्जुन ने अपने साथी पर्वतारोही भूपेश कुमार के साथ 14 अक्टूबर 2015 को एक और इतिहास रचा। पूर्व राष्ट्रपति एपीजे कलाम को श्रद्धांजलि अर्पित करने हुए उन्होंने इस चोटी का नामकरण माउंट कलाम किया।