image

सूचना क्रांति में सोशल मीडिया की अहम भूमिका तो है लेकिन आधी-अधूरी सूचनाओं और अफवाहों की भी यहां भरमार है। ऐेसी अफवाहों और गलत सूचनाओं से समाज में कई बार गलत संदेश भी फैल जाते है| जिनसे निपटना शासन और प्रशासन के लिए काफी कठिन हो जाता है। अब यूपी सरकार ने इससे निपटने की तैयारी कर ली है। सोशल मीडिया पर भड़काने वाली सामग्री डालने वालों पर पर यूपी पुलिस सख्ती करेगी। ऐसे लोगों पर नजर रखने के लिए यूपी पुलिस ने डिजिटल वालेंटियर्स बनाने का निर्णय लिया है। ये वालेंटियर्स विशेष पुलिस अधिकारी के तौर पर काम करेंगे। पुलिस ने ऐसे मामलों में कार्रवाई की रूपरेखा भी तैयार कर ली है।

इस मुहिम को शुरू करने के लिए पुलिस जिलों के ऐसे लोगों को चुनेगी जो इंटरनेट के जानकार हैं और सोशल मीडिया पर सक्रिय रहते हैं। पुलिस ऐसे लोगों को अपना वालेंटियर बनाएगी। सोशल मीडिया खास तौर पर वाट्सएप, ट्वीटर, फेसबुक और यूट्यूब पर भ्रामक और अफवाह फैलानेवाली सामग्री डाले जाने पर ये वालेंटियर पुलिस के क्राइम ब्रांच की सर्विलांस सेल को सूचना देंगे।अगर मामला गंभीर होगा तो पुलिस क्षेत्राधिकार की चिंता किए बगैर उस पर सख्त कार्रवाई करेगी। इसके लिए सभी जिलों में दो-दो पुलिस कर्मियों को विशेष रूप से प्रशिक्षण दिलाया जाएगा।